Thursday, December 1, 2022
Homeछत्तीसगढ़कलिंगा विश्वविद्यालय के फार्मेसी संकाय के द्वारा ‘‘विश्व हेपेटाइटिस दिवस’’ के अवसर...

कलिंगा विश्वविद्यालय के फार्मेसी संकाय के द्वारा ‘‘विश्व हेपेटाइटिस दिवस’’ के अवसर पर वेबिनार का आयोजन संपन्न

रायपुर – कलिंगा विश्वविद्यालय के फार्मेसी संकाय द्वारा ‘‘विश्व हेपेटाइटिस दिवस’’ के अवसर पर 29 जुलाई को वेबिनार का आयोजन किया गया। उक्त वेबिनार में मुख्य वक्ता के रुप में इंदिरा गांधी राष्ट्रीय जनजातीय विश्वविद्यालय, अमरकंटक (म.प्र) के सहा. प्राध्यापक डॉ. के. श्रीनिवास राव उपस्थित थें।

उक्त वेबिनार में उपस्थित मुख्य वक्ता ने बताया कि ‘‘विश्व हेपेटाइटिस दिवस’’ मनाने का मुख्य उद्देश्य वायरल हेपेटाइटिस के वैश्विक संकट के बारे में जागरूकता पैदा करता है। 1967 में नोबेल पुरस्कार विजेता वैज्ञानिक डॉ बारूक ब्लमबर्ग द्वारा हेपेटाइटिस बी वायरस की खोज की गयी। उस वायरस के उपचार के लिए वैक्सीन विकसित की गयी।यह मानव स्वास्थ्य के क्षेत्र में एक ऐतिहासिक घटना है। डॉ. के. श्रीनिवास राव ने हेपेटाइटिस, बीमारी के उपचार के पहलू, उनके प्रकार, सावधानियों, बीमारी में शामिल जटिलताओं के बारे में बताया। बीमारी के लिए एहतियाती उपाय के रूप में हमारे भोजन की आदतों में बदलाव पर बात की गई थी। चिकित्सा विज्ञान की प्रगति के बाद भी पुराने हेपेटाइटिस के उपचार में एंटीवायरल दवाओं का प्रशासन शामिल होता है जिसके बदले में अत्यधिक दुष्प्रभाव भी होते हैं। क्रोनिक हेपेटाइटिस के उपचार की खोज और निर्माण में आने वाली प्रमुख चुनौतियों में बदलती विशेषताएं शामिल हैं क्योंकि अधिकांश लैटिन अमेरिकी देशों में वायरल हेपेटाइटिस के समग्र अद्यतन जनसंख्या-आधारित महामारी विज्ञान अध्ययन अभी भी एक महत्वपूर्ण चुनौती है। यह बाधा क्षेत्र में स्वास्थ्य नीतियों को परिभाषित करने के लिए महत्वपूर्ण है।

मुख्य वक्ता के द्वारा द्वारा बताई गई अन्य चुनौतियों में एचसीवी संक्रमण का निदान करना शामिल रहा। उन्होंने बताया कि इस रोग के लक्षण प्रायः दिखायी नहीं पड़ते हैं और यह कि व्यक्ति केवल तभी चिकित्सा की तलाश करते हैं जब वे लक्षण या यकृत रोग के लक्षण विकसित करते हैं। बीमारी और उसके निदान से जुड़ी चुनौतियों के अलावा, नई दवा की खोज हेपेटाइटिस के इलाज में बाधा के रूप में एक प्रमुख भूमिका निभाती है। उन्होंने बताया कि नई दवा की खोज में भारी निवेश के साथ-साथ समय का पहलू भी होता है, जिसके बाद भी सफलता की संभावना अनिश्चित होती है। विशेषज्ञ द्वारा शामिल एक अन्य महत्वपूर्ण बिंदु आयुर्वेद और पौधे आधारित औषधि पर आधारित वैकल्पिक दवा की आवश्यकता पर आधारित था। हेपेटाइटिस सहित रोगों के उपचार के लिए फाइटो-फार्मास्युटिकल्स विकसित करने की आवश्यकता के कारण आयुर्वेद का विभिन्न रोगों के उपचार के लिए अभ्यास और परीक्षण किया जाता रहा है। पौधे आधारित दवा की आवश्यकता के लिए सहायक आवश्यकता पौधे आधारित दवा के मामले में पाए जाने वाले कम दुष्प्रभाव हैं। वार्ता में दवा विकास प्रक्रिया के बारे में स्पष्टीकरण के बारे में शामिल था, जो एक इंटरैक्टिव प्रश्नावली सत्र के साथ समाप्त हुआ, जिसने प्रतिभागी को अपने ज्ञान का विस्तार करने और हेपेटाइटिस के बारे में अपनी शंकाओं को दूर करने का मौका दिया।

उक्त आयोजन डॉ संदीप प्रसाद तिवारी (प्रिंसिपल) फार्मेसी संकाय के मार्गदर्शन में किया गया।उनके धन्यवाद ज्ञापन के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ। उक्त कार्यक्रम का संचालन श्री प्रांजुल श्रीवास्तव (सहायक प्राध्यापक) और सुश्री सृष्टि नामदेव (सहायक प्राध्यापक) के द्वारा किया गया। आयोजन समिति में निम्नलिखित संकाय सदस्य श्री सुदीप मंडल, सुश्री रजनी यादव, श्री दीपेन्द्र सोनी, सुश्री खुशबू गुप्ता और श्री सौरभ शर्मा आदि शामिल थे।

- Advertisment -spot_img
spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
spot_img
spot_img