Sunday, February 5, 2023
Homeछत्तीसगढ़छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज का 63वां वार्षिक सम्मेलन संपन्न हुआ

छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज का 63वां वार्षिक सम्मेलन संपन्न हुआ



चेंबर के इतिहास में पहली बार किसी मुख्यमंत्री ने एक साथ चेंबर को दी इतनी सौगात.
मुख्यमंत्री जी ने की बड़ी घोषणाएं होलसेल व्यापार कारिडोर की हुई घोषणा, मंडी शुल्क में दी राहत, बनाए जाएंगे स्मार्ट बाजार, नए चेंबर भवन हेतु रियायती दर पर जमीन उपलब्ध होगी.
मुख्यमंत्री जी का कापियों से किया गया तुलादान.

रायपुर। छत्तीसगढ़ चेम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज के प्रदेश अध्यक्ष अमर पारवानी, महामंत्री अजय भसीन, कोषाध्यक्ष उत्तमचंद गोलछा, कार्यकारी अध्यक्ष राजेंद्र जग्गी, विक्रम सिंहदेव, राम मंधान, मनमोहन अग्रवाल ने बताया कि आज दिनांक 10 जनवरी 2023 को पं. दीनदयाल ऑडिटोरियम साइंस कॉलेज में छत्तीसगढ़ चेंबर ऑफ कॉमर्स के 63वें वार्षिक सम्मेलन का आयोजन उत्साह के साथ संपन्न हुआ। 

छत्तीसगढ़ चेंबर का 63वां वार्षिक सम्मेलन दीनदयाल उपाध्याय आडिटोरियम में संपन्न हुआ जिसमें पूरे प्रदेश के कोने कोने से आए भारी संख्या में व्यापारी गण उपस्थित थे। कार्यक्रम की शुरुआत चेंबर के संरक्षक एवं सलाहकार गणों द्वारा दीप प्रज्ज्वलन एवं गणेश वंदना से की गई तत्पश्चात संरक्षक एवं सलाहकार गणों का सम्मान किया गया ।
चेंबर महामंत्री अजय भसीन ने महामंत्री प्रतिवेदन प्रस्तुत किया एवं चेंबर कोषाध्यक्ष उत्तम गोलछा द्वारा आय व्यय का लेखा दिया गया ।
कार्यक्रम के प्रथम सत्र में चेंबर महामंत्री अजय भसीन ने बताया कि चेंबर अध्यक्ष श्री अमर परवानी जी के नेतृत्व में 21 महीने का कार्यकाल और इस समयांतराल में हुआ कार्य किसी से छुपा नहीं है।
श्री भसीन ने आगे कहा कि जब सदस्यता बढ़ाने की बात आई तो 24 सितंबर का दिन सदस्यता दिवस के रूप में चुना गया और हमने 21500 की सदस्य संख्या पार कर चुके हैं जो हमारे लिए गौरव की बात है। आज छत्तीसगढ़ में जितने जिले हैं उतने ही 33 इकाइयां भी छत्तीसगढ़ में संचालित हो रही हैं। हम केवल इकाइयां नही बना रहे बल्कि उनका सकुशल तरीके से संचालन भी कर रहे हैं।
सम्मलेन के प्रथम सत्र में जी एस टी विशेषज्ञ श्री जतिन हरजाई ने जी एस टी की बारीकियों पर व्याख्यान दिया जिसमे अधिकारियों को सर्कुलर जारी किया जाना, तकनीकी पूछताछ, डिपार्टमेंट ऑडिट एवं शोकॉल से संबंधित जानकारियां दी। हरजाई जी ने सम्मेलन में उपस्थित व्यापारियों और पदाधिकारियों को कोर्ट द्वारा किए गए जजमेंट को उदाहरण के जरिए व्यापारियों के अधिकार और टैक्स डिपार्टमेंट के कार्य को बड़ी सरलता से समझाया साथ ही व्यापारियों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का समाधान भी किया।

चेंबर अध्यक्ष अमर परवानी ने अपने उद्बबोधन में कहा कि कोविड काल के पश्चात अब व्यापार एवं उद्योग जगत में उत्साह का वातावरण है और सरकार की सकारात्मक नीतियों के कारण व्यापार फल फूल रहा है। चेंबर अध्यक्ष ने मुख्यमंत्री जी को मंडी टैक्स में छूट देने के लिए निवेदन किया साथ में पूर्व में किये गए निवेदनो पर भी निर्णय लेने हेतु आग्रह किया।
श्री परवानी ने कहा कि हमारे प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल जी के पास हम जब भी जो मांगने गए हैं उन्होंने हमें कभी निराश नहीं किया है और सदैव हमारी त्वरित सुनवाई की है। आज पूरे प्रदेश के व्यापारी आपकी ओर आशा भरी निगाहों से देख रहे हैं कि होलसेल व्यापार कॉरिडोर, स्मार्ट बाजार और चेंबर के नए भवन के लिए भूमि की सौगात आज आप हमको देंगे।
माननीय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि उनकी सरकार ने पिछ्ले 4 साल में डेढ़ लाख करोड़ रूपये सीधे किसानों, मजदूरों और गोपालकों के खाते में दिए हैं जिनसे उनकी क्रय शक्ति बढ़ी है और दूर दराज के क्षेत्रों में भी ट्रैक्टर, मोटरसायकल, कपड़ो, बर्तन एवं मोबाईल आदि की बिक्री में उल्लेखनीय बढ़ोतरी हुई है। मुख्यमंत्री जी ने अपने उद्बोधन में व्यापार जगत को बड़ी सौगात देते हुए नया रायपुर में होलसेल कॉरिडोर की स्थापना के लिए 500 एकड़ भूमि की स्वीकृती दी और कहा कि और जगह की जरूरत होने पर और भी भूमि दी जाएगी।
मुख्यमंत्री जी ने होलसेल कॉरिडोर से संबंधित औपचारिकताओं के लिए त्वरित कार्यवाही करने हेतू अधिकारीयों को निर्देश दिया और कहा कि अगले 3 माह के भीतर होलसेल व्यापार कारिडोर का निर्माण शुरु हो जाएगा। मुख्यमंत्री जी ने नए चेंबर भवन के लिए रियायती दर पर भूमि देने की भी घोषणा की, मुख्यमंत्री जी ने कहा कि चेंबर राजस्व की कोई उपयुक्त जगह देख ले उसे तत्काल आबंटित कर दिया जाएगा। मुख्यमंत्री जी ने प्रदेश के बाजारों को स्मार्ट बाजार बनाने के लिए बाजारों में पार्किंग एवं लाईट और सुरक्षा के लिए सीसीटीवी कैमरा लगाए जायेंगे और प्रदेश में वर्तमान में व्यवसायिक कॉम्प्लेक्सों में सिंगल बिजली कनेक्शन दिया जाता है जिसका सब मीटर से व्यापारीयों को कनेक्शन दिया जाता है जिससे व्यापारियों पर बिजली बिल का अनावश्यक भार बढ़ता है इसमें चेंबर द्वारा पूर्व में दिए गए प्रतिवेदन के अनुसार बड़ी छूट देते हुए मुख्यमंत्री जी ने व्यवसायिक कांप्लैक्स में मल्टी कनेक्शन देने की स्वीकृती प्रदान की है, इससे कांप्लैक्स में दुकान लेने वाले लोगों को बड़ी राहत मिलेगी। चेंबर के द्वारा पूर्व में की गई मांग के अनुसार आवासीय क्षेत्रों में जो व्यवसायिक निर्माण कर लिए गए हैं, इन निर्माण के नियमितीकरण करने की भी माननीय मुख्यमंत्री जी ने घोषणा की 31 दिसंबर तक दिए गए आवेदनों को 31 मार्च तक निराकृत कर दिया जाएगा ।
मुख्यमंत्री जी ने ग्रामीण अंचल के व्यापारियों से आव्हान किया कि नई ग्रामीण औद्योगिक पार्क की योजना का लाभ लें और रिपा के तहत लघु और कुटीर उद्योग लगाएं, खासतौर से मिलेट्स के प्रसंस्करण उद्योग जरूर लगाएं। मुख्यमंत्री जी ने कहा कि समृद्ध छत्तीसगढ के निर्माण में उद्योग एवं व्यापार जगत की विशेष भूमिका है मुख्यमंत्री जी ने कहा कि समृद्ध छत्तीसगढ के निर्माण में उद्योग एवं व्यापार जगत की विशेष भूमिका है।
मुख्यमंत्री जी के भाषण का पूरे हाल में उपस्थित व्यापारियों ने अपने स्थान पर खड़े होकर तालियों की गड़गड़ाहट के साथ स्वागत किया।
छत्तीसगढ़ के व्यापर जगत में एवं चेंबर के इतिहास में यह पहली बार है कि मुख्यमंत्री जी ने चेंबर के मंच से व्यापारी हित में इतनी घोषणाएं एक साथ की।
इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री जी के साथ छत्तीसगढ़ शासन के वन एवं पर्यावरण मंत्री श्री मोहम्मद अकबर, खाद्य मंत्री श्री अमरजीत भगत जी, संसदीय सचिव विकास उपाध्याय, हाउसिंग बोर्ड अध्यक्ष कुलदीप जुनेजा, नगर पालिक निगम के महापौर श्री एजाज़ ढेबर जी एवं नगर निगम सभापति श्री प्रमोद दुबे विशेष रूप से उपस्थित थे।
कार्यक्रम के दूसरे सत्र में
पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह, नेता प्रतिपक्ष श्री नारायण चंदेल, सांसद सुनील सोनी, विधायक रायपुर दक्षिण बृजमोहन अग्रवाल विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे । दोनों वरिष्ठ नेताओं को चेंबर अध्यक्ष अमर परवानी ने जी एस टी, इंकम टैक्स तथा रेलवे से संबंधित ज्ञापन दिए तथा डॉक्टर रमन सिंह जी यह आश्वासन दिया कि चेंबर के इन ज्ञापनों को दिल्ली में संबंधित मंत्रियों तक पहुँचा कर चर्चा करेंगे।
द्वितिय सत्र में कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी सी भारतीया जी ने (बदलते हुए परिवेश में भविष्य का व्यापार) विषय पर अपना व्याख्यान दिया और कहा कि समय समय में व्यापार करने का तरीका बदला है, जो बदला है वो नया जीवन जी रहे है और जो नही बदले वो समाप्त हो रहे हैं। आज ग्राहक क्या चाहता है हमे यह समझना पड़ेगा। जिससे हम पैसे कमा रहे हैं उनका हमे ध्यान रखना है। तभी हमारा व्यापार सफल और विकसित हो सकता है। यह हमारा दायित्व है।
द्वितिय सत्र की अगली कड़ी में अन्तर्राष्ट्रीय प्रेरक वक्ता एवं आध्यात्मिक गुरू गौरांगदास जी प्रभु ने (कोविड उपरांत परिवार एवं व्यापार) विषय पर कहा कि मानसिक शांति के लिए अध्यात्म से जुड़े रहना आवश्यक है। विल के बिना व्यक्ति के स्किल का महत्व नहीं है। जीवन में अपने लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए एकाग्रता, अनुशासन एवं सहशीलता आवश्यक है।


चेंबर के इस 63वें वार्षिक सम्मलेन में अतिथियों के स्वागत के लिए पुष्पगुच्छ के स्थान पर कापियों का बंडल भेंट कर अतिथियों का स्वागत किया गया और मुख्यमंत्री जी को भी कापियों से तौला गया जिसे बाद में जरूरतमंद छात्रों में वितरित कर दिया जाएगा। चेंबर की इस नवीन पहल की भी सबने सराहना की।
कार्यक्रम के अंत में चेंबर अध्यक्ष की अनुमति से प्रश्नोत्तर सत्र हुआ।

कार्यक्रम का संचालन चेंबर महामंत्री अजय भसीन ने किया तथा कार्यक्रम के अंत में चेंबर कार्यकारी महामंत्री विकास ने धन्यवाद ज्ञापित किया तथा कार्यक्रम के संयोजक चेंबर उपाध्यक्ष जय नानवानी थे।
सम्मेलन में पूरे प्रदेश से 2000 से अधिक व्यापारियों की उपस्थिति रही। जिसमे प्रदेश की समस्त इकाइयाँ रायगढ़ इकाई,सारंगढ़ इकाई, खरसिया इकाई, महासमुंद इकाई, सरईपाली इकाई, तिल्दा इकाई, नवापारा इकाई, खरोरा इकाई, चाम्पा इकाई, नैला इकाई, जांजगीर इकाई, अकलतरा इकाई, सक्ती इकाई, दुर्ग इकाई, भिलाई इकाई, कोरिया इकाई, गरियाबंद इकाई , बैकुंठपुर इकाई, राजिम इकाई, राजनंदगांव इकाई, कांकेर इकाई, चारामा इकाई, अंबिकापुर इकाई, बालोद इकाई, दल्ली राजहरा इकाई, मुंगेली इकाई, बिलासपुर इकाई, दंतेवाडा इकाई, बलोदा बाजार इकाई, भाटापारा इकाई, कवर्धा इकाई, साजा इकाई, गौरेला-पेंड्रा-मारवाही इकाई, गुंडरदेही इकाई, घरघोड़ा इकाई सहित प्रदेश भर के व्यापारिक संगठन एवं व्यापारी बड़ी संख्या में उपस्थित रहे।

Most Popular

- Advertisment -spot_img