Thursday, December 1, 2022
Homeताजा खबरहिंदी दिवस विशेष : हिदी तो राष्ट्र की चिंतन धारा का मूल...

हिंदी दिवस विशेष : हिदी तो राष्ट्र की चिंतन धारा का मूल है-उर्मिला देवी उर्मि

हिन्दी : राष्ट्र की चिंतन धारा का मूल है।

हिन्दी को केवल मातृभाषा मान लेना भूल है ।
हिन्दी को भाषा- मात्र समझ लेना भी भूल है ।।
.
हिदी तो राष्ट्र की चिंतन धारा का मूल है ।
हिंदी को हिंदी नहीं समझें, खटकता ये शूल है ।।

हिंदी की महत्ता जन -जन को कबूल है ।
हिंदी विरोधी झगड़ा फिर सारा फिजूल है ।।

प्यारी ये सभी को, संस्कृत इसका मूल है ।
भाषा -बगिया का यह मनमोहक फूल है ।।

विचारों के विनिमय का सेतु है, कूल है ।
विवादों को निहित स्वार्थी ही दे देता तूल है।।

घर- घर देखो बना हुआ है, ठौर -ठिकाना हिंदी का ।
सदियों से सड़क- हाट में राज दिखे है हिंदी का ।।

भक्ति – प्रीति में, गीत -गान में, रूप सजे है हिंदी का ।
रीति -नीति में, मोल- तोल में भाव दिखे है हिंदी का ।

दोहा, सवैया, चौपाई में, रूप खिले है हिंदी का ।
काव्य, कहानी,उपन्यासों में,मान बढे है हिंदी का ।।

मान कमाया तुलसी मीरा ने, मान बढ़ा कर हिंदी का
मान सभी को मिल जाएगा, मान बढ़ाओ हिंदी का ।

उर्मिला देवी उर्मि
साहित्यकार , हिंदी -सेवी, सामाजिक- चिंतक , शिक्षाविद
रायपुर, छत्तीसगढ

- Advertisment -spot_img
spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
spot_img
spot_img