Thursday, December 8, 2022
Homeछत्तीसगढ़शिक्षक दिवस विशेष : साहित्यकार, समाज सेवी, शिक्षिका उर्मिला देवी 'उर्मि' की...

शिक्षक दिवस विशेष : साहित्यकार, समाज सेवी, शिक्षिका उर्मिला देवी ‘उर्मि’ की गुरुजनों पर शानदार कविता

गुरू जन के उपकार बहुत हैं

गुरु जन के उपकार बहुत है ।
गिनती हम नहीं कर पाते ।।

पूरा जीवन कम लगता है ।
उनकी महिमा गाते गाते ।।

कोरे कागज जैसे मन पर ।
गुरु ज्ञान की बात सजाते ।।

सच्चा मानव कैसे बनते ।
पाठ हमें यह रोज पढ़ाते ।।

शिखर सफलता के पाने की।
राह सही गुरुजन बतलाते ।।

बाधाओं से लड़ना सिखलाते ।
विश्वास जीत का रोज बढ़ाते ।।

शिष्यों का उत्कर्ष देखकर ।
सच्चा सुख गुरुजन हैं पाते ।।

इसीलिए तो गुरु चरणों में ।
भगवन भी निज शीश झुकाते ।।

उर्मिला देवी ‘उर्मि’
साहित्यकार, समाज सेवी, शिक्षिका
रायपुर, छत्तीसगढ़

- Advertisment -spot_img
spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
spot_img
spot_img