Tuesday, December 6, 2022
Homeछत्तीसगढ़सरगुजा कलेक्टर के खिलाफ जनसंपर्क अधिकारी और कर्मचारियों का निंदा प्रस्ताव, लगाए...

सरगुजा कलेक्टर के खिलाफ जनसंपर्क अधिकारी और कर्मचारियों का निंदा प्रस्ताव, लगाए गंभीर आरोप

रायपुर। सरगुजा कलेक्टर कुंदन कुमार के खिलाफ जनसंपर्क अधिकारियों ने मोर्चा खोल दिया है। आरोप है कि कलेक्टर सरकारी योजनाओं का प्रचार-प्रसार कराने की बजाय, अपनी बड़ाई कराने के लिए प्रचार-प्रसार कराते हैं।

ऐसा नहीं करने पर अधिकारियों के साथ अभद्र व्यवहार किया जाता है। छत्तीसगढ़ जनसंपर्क अधिकारी संघ ने कलेक्टर कुंदन कुमार पर दो जनसंपर्क अधिकारियों से अमर्यादित व्यवहार, अपशब्दों के प्रयोग का आरोप लगाकर निंदा प्रस्ताव पारित किया है।

संघ ने यह भी मांग की है कि कलेक्टर सरगुजा अपने अमर्यादित व्यवहार के लिए तत्काल खेद व्यक्त करें। संघ का कहना है कि जनसंपर्क अधिकारी सरकार की छवि निर्माण का काम करते हैं। उनसे यह कहना कि वे राज्य सरकार का प्रचार प्रसार न करे और केवल कलेक्टर का ही प्रचार प्रसार करें, यह उचित नहीं है। कलेक्टर सरगुजा का इस तरह का अशोभनीय और अमर्यादित व्यवहार कर्मठ अधिकारियों के मनोबल को गिराने वाला और उन्हें हतोत्साहित करने वाला है।

जनसंपर्क अधिकारी संघ की शनिवार को राजधानी रायपुर में बैठक हुई। इसमें सरगुजा के सहायक संचालक दर्शन सिंह सिदार और सहायक सूचना अधिकारी सुखसागर वारे ने अपने साथ हुए अमर्यादित व्यवहार की जानकारी दी। आरोप लगाया गया कि कलेक्टर अधिकारियों को धमकी भी देते हैं। वहीं, सुखसागर वारे को अनाधिकृत रूप से अनुविभागीय दंडाधिकारी कार्यालय सरगुजा में संलग्न किया गया है।

बैठक में संघ के संरक्षक उमेश मिश्रा, प्रधान संयोजक संजीव तिवारी, महासचिव आलोक देव, संयोजक हर्षा पौराणिक, उपाध्यक्ष द्वय पवन गुप्ता, हीरा देवांगन, संगठन सचिव द्वय जितेन्द्र नागेश, इस्मत दानी, सचिव राजेश श्रीवास, कोषाध्यक्ष लक्ष्मीकांत कोसरिया, प्रचार सचिव घनश्याम केशरवानी, कार्यकारिणी सदस्य सौरभ शर्मा, सचिन शर्मा, नितिन शर्मा, कमलेश साहू, मनराखन मरकाम, आर. नटेश, शशिरत्न पाराशर, विवेक सरकार, डा. दानेश्वरी, रीनू ठाकुर, ताराशंकर सिन्हा, भवानी सिंह ठाकुर, नितेश चक्रधारी, रविन्द्र चौधरी, सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

अभद्र व्यवहार करना अनुचित है

छत्तीसगढ़ जनसंपर्क अधिकारी संघ के अध्यक्ष बालमुकुंद तंबोली ने कहा कि जनसंपर्क का कार्य 24 घंटे का है। सभी अधिकारी-कर्मचारी सुबह से देर रात तक अपने काम में लगे रहते हैं। अवकाश के दिनों में भी पूरी निष्ठा और कर्मठता से शासन के प्रचार-प्रसार का काम करते हैं। इसके बाद भी अफसर यदि अभद्र व्यवहार करेंगे तो यह अनुचित है। हम इसकी निंदा करते हैं। इस मामले को मुख्यमंत्री के सामने रखेंगे।

- Advertisment -spot_img
spot_img

Most Popular

- Advertisment -spot_img
spot_img
spot_img